Tuesday, December 2, 2008

मेरा परिचय : इस अन्तर्नेत्रिय दुनिया ने जो कहा

कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है,मगर धरती की बैचेनी को बस बादल समझता है।तू मुझसे दूर कैसी है, मैं तुझसे दूर कैसा हूँ,ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है।**** www.kumarvishwas.com ****:Dr Kumar Vishwas is one of the most promising poet of the new upcoming generation of Hindi poets.With his loquacity, panache and sheer intellect in his poems he has regaled the audience all over the country. His stage performances are unmatched in their spontaneity and intensity.He is the most respectable name in the field of poetry today, apart of freshness and purity the most surprising package associated with his creation is his ability to fill the so called gap between mass and class, While the soothing effect warmth and depth of his creations hypnotizes the intellectual audience of IITS and IIMsand makes him the most adorable poet among the technocrats, then the simplicity and his magical voice makes him the most popular poet among the down-to-earth, massive and huge-spread audience of kavisammelans

11 comments:

panchayatnama said...

Keep writing sir...

Ravi Srivastava said...

धन्यवाद विस्वास जी, मै आपके बारे जानने तथा आप की मित्रता के लिए उत्सुक हूँ. कृपया आप मुझे बताएं की क्या आप वही डॉ. कुमार विस्वास हैं, जिनकी चंद लाईने मुझे इतनी अच्छी लगी की मैंने उन्हें 'मेरी पत्रिका' दाल दिया. जो इस लिंक पर हैं - http://meri-patrika.blogspot.com/2009/06/blog-post_22.html

उम्मीद है की आप मुझे क्षमा कर देंगे.

मैंने आप की एक दो रिकॉर्डिंग भी देखि है. आप जब बनारस में अस्सी घात पर अपनी प्रस्तुति की तब भी मै मौजूद था. मुझे बहुत अच्छा लगा था. वाकई आप एक जोशीले और सुपर आर्टिस्ट हैं. आप का कमेन्ट अपने ब्लॉग पर पाकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई. आशा है आप आगे भी ऐसे ही अपना स्नेह बनाए रखेंगे. और हाँ, कृपया ब्लॉग लिखना जारी रखें, इससे हमें आप की समीपता का एहसास होगा.

रवि श्रीवास्तव

श्रीश पाठक 'प्रखर' said...

कुमार विश्वास जी आप ब्लॉगजगत को उतना महत्व नहीं दे रहे है, कभी-कभार तो लिखी दिया करिए, हम .आपके प्रशंशक लोग तृप्त हो जाया करेंगे..देखिये दिसम्बर २००८ को आपकी पहली पोस्ट फिर आप इसके लिए समय ही नहीं निकल सके....आशा इस दीवाली से ही सही आप नियमित लिखना शुरू कर देंगे...कृपया हफ्ते में एक ही पोस्ट लिखिए पर लिखिए जरूर.....दीवाली की ढेरों शुभकामनायें...

CSK said...

परम-आदरणीय विश्वास जी,
सस्नेह नमस्कार..!
मैं आपकी कविताओं को स्वर-मुग्ध कर गाने की इस रचनात्मकता का कायल हूँ.मैं इस बात की क्षमा चाहता हूँ की आपकी कविताओं का मैं अपने कॉलेज के वार्षिकोत्सव में उपयोग किया था बिना आपकी इजाज़त के.मैंने आपकी कवितायेँ यू-ट्यूब पे सुनी थी कुछ अंश याद रहे और कुछ निकल गए मैं इस कदर दीवाना था की मुझे लगा के मुझे इन मुक्तकों को कॉलेज के मंच से अपने सहपाठियों को सुनना चाहिए ताकि उन्हें इन शब्दों के भीतर छुपे dard ka अहसास हो."समंदर पीर का.." इस मुक्तक से तो मेरे कॉलेज की महिलाओं का मैंने विश्वास खो दीया मगर सभी पुरुषों ने जोरदार तालियाँ बजाकर मेरा समर्थन kiya tha. बदलने की बात se जुड़े एक मुक्तक को मैं हु-ब-हु आपके लफ्जों में तो नहीं कह पाया मगर जो शब्द मुझे याद नहीं थे मैंने वहां कुछ छेरछार की थी जिसके लिए मैं फिर से आपसे क्षमा चाहता हूँ.
"कोई भौंरा बगीचे की हर एक कलियों पे मरता है
मधु पीके नशे में भी वो क्यूँ आहें ही भरता है
शमा की आग में जलने परवाना नहीं डरता
शमा के साथ जीता है शमा के साथ मरता है ".

raj said...

kumar ji ko raj kumar ka namashkar,

main aapki kavitao ki malao ke prasanshako me se 1 hu, Aaj rat me aap ko bareilly me suna aap barelly lagbhag her sal aate ho or main keval aap ko sunne hi aata hu, yu to sabhi apni 2 vidha ke mahir kavi h. Aapki hajir jababi ka koi jabab hi nahi h.Bareilly ke kavi sammelan me Aapne jo tiranga fahraya, Ashish ji ne veer ras ki ganga ko bahaya or rahat ji ne nai pidi ke pyar ko jivant kar dikhaya or pyar se gali dena sikhya,avasthi ji ne 1 teacher ki tarha udahahran deker sampradayikta ke bachho ko hspatal ki narso se nehlawaya, adhiyaksh ji ne to kamal hi kar dia bahe huae logo ko desh bhagti ki kavita se khub rulaya or bahut taji se hall ke baher kar dia.
Aap ko sunte rehne per sabhi samyai ki seemao ko bhul jate h. Phali bar blog ke madhyam se aapse samprk kar raha hu.yah sonia ji jasi hindi h aap to khub samajhte h islya viniti h trutiya ko nazerandaz kar dena

SADHANYABAD
RAJ KUMAR SHARMA
BAREILLY

raj said...

kumar ji ko raj kumar ka namashkar,

main aapki kavitao ki malao ke prasanshako me se 1 hu, Aaj rat me aap ko bareilly me suna aap barelly lagbhag her sal aate ho or main keval aap ko sunne hi aata hu, yu to sabhi apni 2 vidha ke mahir kavi h. Aapki hajir jababi ka koi jabab hi nahi h.Bareilly ke kavi sammelan me Aapne jo tiranga fahraya, Ashish ji ne veer ras ki ganga ko bahaya or rahat ji ne nai pidi ke pyar ko jivant kar dikhaya or pyar se gali dena sikhya,avasthi ji ne 1 teacher ki tarha udahahran deker sampradayikta ke bachho ko hspatal ki narso se nehlawaya, adhiyaksh ji ne to kamal hi kar dia bahe huae logo ko desh bhagti ki kavita se khub rulaya or bahut taji se hall ke baher kar dia.
Aap ko sunte rehne per sabhi samyai ki seemao ko bhul jate h. Phali bar blog ke madhyam se aapse samprk kar raha hu.yah sonia ji jasi hindi h aap to khub samajhte h islya viniti h trutiya ko nazerandaz kar dena

SADHANYABAD
RAJ KUMAR SHARMA
BAREILLY

raj said...

kumar ji ko raj kumar ka namashkar,

main aapki kavitao ki malao ke prasanshako me se 1 hu, Aaj rat me aap ko bareilly me suna aap barelly lagbhag her sal aate ho or main keval aap ko sunne hi aata hu, yu to sabhi apni 2 vidha ke mahir kavi h. Aapki hajir jababi ka koi jabab hi nahi h.Bareilly ke kavi sammelan me Aapne jo tiranga fahraya, Ashish ji ne veer ras ki ganga ko bahaya or rahat ji ne nai pidi ke pyar ko jivant kar dikhaya or pyar se gali dena sikhya,avasthi ji ne 1 teacher ki tarha udahahran deker sampradayikta ke bachho ko hspatal ki narso se nehlawaya, adhiyaksh ji ne to kamal hi kar dia bahe huae logo ko desh bhagti ki kavita se khub rulaya or bahut taji se hall ke baher kar dia.
Aap ko sunte rehne per sabhi samyai ki seemao ko bhul jate h. Phali bar blog ke madhyam se aapse samprk kar raha hu.yah sonia ji jasi hindi h aap to khub samajhte h islya viniti h trutiya ko nazerandaz kar dena

SADHANYABAD
RAJ KUMAR SHARMA
BAREILLY

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar said...
This comment has been removed by the author.
जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar said...
This comment has been removed by the author.
जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar said...

भाई कुमार विश्वास जी,
आपकी प्रतिभा का क़ायल हूँ मैं...आप निरंतर प्रगति करें..मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ!

लेकिन एक बात पूरी विनम्रता एवं सद्‌भावना के साथ कहना चाहूँगा कि यहाँ आपके परिचय में जो निम्नांकित अंश हैं, उसे थोड़ा Edit कर दें तो आपकी विनम्रता झलकेगी-

He is the most respectable name in the field of poetry today.

उपर्युक्त अंश कुछ यूँ होना चाहिए:

He is one the most respectable names in the field of poetry today.

अब, आपकी राय जो भी हो...!?

आपका भाई,
जितेन्द्र ‘जौहर’
मोबा. नं. +91 9450320472

Vishal Singh said...

Alaukik, anupam v adbhut